आजकल बच्चे Hyperactive क्यों होते जा रहे हैं ? उसके कारण और समाधान2। Hyperactive Bache Ke Liye Tips

आज के डिजिटल युग में, यह देखना असामान्य नहीं है कि आज के बच्चे पहले से कहीं अधिक hyperactive हो गए हैं। माता-पिता और शिक्षकों ने समान रूप से इस प्रवृत्ति के बारे में चिंता व्यक्त की है। यह लेख बच्चों में अति hyperactive के कारणों पर प्रकाश डालता है और माता-पिता और देखभाल करने वालों के लिए व्यावहारिक समाधान प्रदान करता है।
हाल के वर्षों में, यह स्पष्ट हो गया है कि बच्चे उच्च स्तर की सक्रियता प्रदर्शित कर रहे हैं। अतिसक्रियता का मतलब सिर्फ अत्यधिक ऊर्जावान होना नहीं है; यह आवेगपूर्ण व्यवहार, ध्यान देने में कठिनाई और बेचैनी के रूप में भी प्रकट हो सकता है। इस लेख का उद्देश्य इस घटना में योगदान देने वाले विभिन्न कारकों पर प्रकाश डालना और इसे प्रभावी ढंग से संबोधित करने के तरीके पर मार्गदर्शन प्रदान करना है।

Contents hide
1 आज के डिजिटल युग में, यह देखना असामान्य नहीं है कि आज के बच्चे पहले से कहीं अधिक hyperactive हो गए हैं। माता-पिता और शिक्षकों ने समान रूप से इस प्रवृत्ति के बारे में चिंता व्यक्त की है। यह लेख बच्चों में अति hyperactive के कारणों पर प्रकाश डालता है और माता-पिता और देखभाल करने वालों के लिए व्यावहारिक समाधान प्रदान करता है। हाल के वर्षों में, यह स्पष्ट हो गया है कि बच्चे उच्च स्तर की सक्रियता प्रदर्शित कर रहे हैं। अतिसक्रियता का मतलब सिर्फ अत्यधिक ऊर्जावान होना नहीं है; यह आवेगपूर्ण व्यवहार, ध्यान देने में कठिनाई और बेचैनी के रूप में भी प्रकट हो सकता है। इस लेख का उद्देश्य इस घटना में योगदान देने वाले विभिन्न कारकों पर प्रकाश डालना और इसे प्रभावी ढंग से संबोधित करने के तरीके पर मार्गदर्शन प्रदान करना है।

 hyperactive

अतिसक्रियता(hyperactive) को समझना:- अतिसक्रियता(hyperactive) एक जटिल समस्या है जिसके लिए किसी एक कारण को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। इसके बजाय, यह अक्सर कारकों के संयोजन से उत्पन्न होता है। यह बेहतर ढंग से समझने के लिए कि आज बच्चे अति सक्रियता के प्रति अधिक संवेदनशील क्यों हैं, आइए इनमें से कुछ योगदान देने वाले कारकों के बारे में जानने की कोशिश करेंगे।

तकनिकी का प्रभाव(Impact of technology): – बच्चों में अतिसक्रियता में योगदान देने वाला एक महत्वपूर्ण कारक अत्यधिक स्क्रीन समय है। स्मार्टफोन, टैबलेट और वीडियो गेम के प्रसार के साथ, कई बच्चे शारीरिक गतिविधियों या आमने-सामने बातचीत करने की तुलना में स्क्रीन के सामने अधिक समय बिताते हैं।

अत्यधिक स्क्रीन समय न केवल एक गतिहीन जीवन शैली की ओर ले जाता है, बल्कि नींद के पैटर्न को भी बाधित कर सकता है, जिससे बेचैनी और लापरवाही को बढ़ावा मिलता है।

जीवनशैली और आहार संबंधी कारक(Lifestyle and dietary factors): – आहार बच्चे के व्यवहार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उच्च चीनी, कृत्रिम योजक और परिरक्षकों वाले खाद्य पदार्थों को बच्चों में बढ़ती सक्रियता से जोड़ा गया है। इसके अतिरिक्त, अनियमित भोजन का समय और अपर्याप्त पोषण समस्या को बढ़ा सकता है।

पालन-पोषण की शैलियाँ(Parenting Styles): – पालन-पोषण की शैली भी बच्चे के व्यवहार को प्रभावित कर सकती है। बहुत अधिक अनुज्ञापूर्ण पालन-पोषण या बहुत सख्त होने से भावनात्मक गड़बड़ी हो सकती है, जो अति सक्रियता के रूप में प्रकट हो सकती है।

स्कूल का माहौल(School Environment): – कक्षा का माहौल बच्चे की ध्यान केंद्रित करने की क्षमता को या तो सुविधाजनक बना सकती है या बाधित कर सकती है। बड़ी कक्षा का आकार, शोर-शराबा वाला वातावरण और व्यक्तिगत ध्यान की कमी बेचैनी और असावधानी में योगदान कर सकती है।

आनुवंशिक प्रवृत्ति(Genetic tendency): – कुछ बच्चों में सक्रियता की आनुवंशिक प्रवृत्ति हो सकती है। यदि किसी बच्चे का पारिवारिक इतिहास ध्यान संबंधी विकारों या अतिसक्रियता का है, तो बच्चे को इन समस्याएं होने की अधिक संभावना है।

भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक कारक(Emotional and Psychological Factors): – तनाव, चिंता और आघात सभी अति सक्रियता में योगदान कर सकते हैं। जो बच्चे भावनात्मक कठिनाइयों का अनुभव करते हैं वे इससे निपटने के तरीके के रूप में बेचैनी और आवेग का प्रदर्शन कर सकते हैं।

शारीरिक गतिविधि और खेल का अभाव(Lack of physical activity and sports): – आज के समय में ज्यादातर बच्चे घर से बाहर नहीं निकलते हैं और ज्यादातर समय घर पर ही  मोबाइल में लगे रहते हैं। अपर्याप्त शारीरिक गतिविधि और बाहर समय बिताने से ऊर्जा में कमी आ सकती है, जिससे बच्चों में अति सक्रियता का खतरा हो सकता है।

अतिसक्रिय समाधान(Proactive solution): –

स्वस्थ स्क्रीन समय:- अत्यधिक स्क्रीन समय की समस्या के समाधान के लिए, माता-पिता को डिवाइस के उपयोग के संबंध में स्पष्ट नियम स्थापित करने चाहिए। एक परिवार के रूप में आउटडोर खेल को प्रोत्साहित करना और शारीरिक गतिविधियों में शामिल होना भी अतिरिक्त ऊर्जा को सकारात्मक तरीके से प्रसारित करने में मदद कर सकता है।

पोषण एवं सक्रियता:- आज के समय में बच्चे घर का खाना खाना पसंद नहीं करते हैं। अधिकतर बच्चों को बाहर का पनीर पसंद होता है जिससे उनमें आक्रामकता बढ़ती है। बच्चे के सर्वांगीण विकास के लिए संतुलित आहार जरूरी है। मीठे स्नैक्स को कम करने और संपूर्ण, पौष्टिक खाद्य पदार्थों को चुनने से व्यवहार पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

प्रभावी पालन-पोषण रणनीतियाँ: – पालन-पोषण को अनुशासन और स्नेह के बीच संतुलन बनाना चाहिए। स्पष्ट सीमाएँ निर्धारित करना, सकारात्मक सुदृढीकरण प्रदान करना और एक संरचित दिनचर्या बनाना अति सक्रियता को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है।

शिक्षकों की भूमिका:- शिक्षक एक बच्चे के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अतिसक्रिय बच्चों की काउंसिलिंग कर उनकी समस्याओं का समाधान करने का प्रयास करना चाहिए। कक्षा में अति सक्रियता को संबोधित करने के लिए शिक्षकों के साथ सहयोग करने से बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

पेशेवर मदद लेना:- कुछ मामलों में, अतिसक्रियता के लिए पेशेवर हस्तक्षेप की आवश्यकता हो सकती है। बाल रोग विशेषज्ञ या बाल मनोवैज्ञानिक से परामर्श करने से अंतर्निहित मुद्दों की पहचान करने और अनुरूप रणनीति विकसित करने में मदद मिल सकती है।

निष्कर्ष:- बच्चों में अतिसक्रियता विभिन्न कारकों के साथ एक बहुआयामी मुद्दा है। इन कारकों को समझकर और सक्रिय उपाय करके, माता-पिता और देखभाल करने वाले बच्चों को स्वस्थ, अधिक संतुलित जीवन जीने में मदद कर सकते हैं।

बच्च्चों की शिक्षा पर सोशल मीडिया का प्रभाव? – The Knowledge Hub (educationalvip.com)

1 thought on “आजकल बच्चे Hyperactive क्यों होते जा रहे हैं ? उसके कारण और समाधान2। Hyperactive Bache Ke Liye Tips”

Leave a Comment