शिक्षा में इंटरनेट की भूमिका ”फायदे या नुकसान”2023।

आज के समय में शिक्षा का व्यापक विस्तार हुआ और शिक्षा में इंटरनेट का भी बहुत ज्यादा प्रयोग हो रहा है। आज के समय में शिक्षा केवल विद्यालय,विद्यार्थी और अध्यापक तक सीमित नहीं रही है तथा यह केवल परम्परागत स्तर तक सीमित नहीं रही है।

Contents hide

जब से कोरोना जैसी महामारी आई है कुछ समय के लिए तो स्कूल,कॉलेज इंटरनेट पर ही सिमट कर रह गए थे और व्यापकतौर पर इंटरनेट पर निर्भरता बढ़ गई है। आज शिक्षा में व्यापक इंटरनेट(internet) का प्रयोग हुआ है जिसके फायदे व नुकसान दोनों है। इस ब्लॉग में हम शिक्षा में इंटरनेट के फायदे और नुकसान के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे।                                      शिक्षा में इंटरनेट
शिक्षा में इंटरनेट के फायदे:-

आज  शिक्षा में तकनीकी का व्यापक विस्तार हुआ है। किताबों का सारा ज्ञान छोटे से कंप्यूटर या मोबाइल में सिमट कर रहा गया है। हम एक क्लिक(CLICK) से कुछ ही सेकेण्ड में किसी भी प्रश्न का उत्तर आसानी से प्राप्त कर सकते हैं इंटरनेट ने हमारे जीवन को  बुहत आसान बना दिया है।

कई विद्यालय,महाविद्यालय आदि शिक्षण संस्थाओं में भी शिक्षण कार्य इंटरनेट के माद्यम से कराया जा रहा है और छात्र छोटे से लेकर बड़े काम के लिए इसी इंटरनेट  का प्रयोग कर रहे है जो उनके लिए बहुत उपयोगी साबित हो रही है| स्कूल गृह कार्य भी आजकल मोबाइल या कंप्यूटर के माद्यम से आसानी से हो जाता है और छात्रों को किसी की मदद की जरुरत नहीं पड़ती | इस प्रकार शिक्षा में इंटरनेट(Internet in education) ने हमारे जीवन को आसान बना दिया है|

1. विशेषज्ञ शिक्षा:- इंटरनेट के माध्यम से विभिन्न शिक्षा सामग्रियों तक पहुंचना आसान होता है। छात्र अपनी रुचि के हिसाब से विशेषज्ञ शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

2. विविधता:- इंटरनेट पर शिक्षा की विविधता बढ़ जाती है। छात्र विभिन्न विषयों में पढ़ सकते हैं और अपनी रूचि के हिसाब से सीख सकते हैं।

3. वीडियो शिक्षा:- वीडियो शिक्षा के माध्यम से छात्र स्वयं को अधिक समझते हैं। यह उनके लिए अधिक स्पष्टता और समझदारी लेकर आता है।

4. खुद से शिक्षा:- इंटरनेट पर शिक्षा से छात्र खुद से शिक्षा हासिल कर सकते हैं। यह उनकी स्वाध्याय कौशल को बढ़ाता है।

5. ग्लोबल शिक्षा:- इंटरनेट के माध्यम से छात्र ग्लोबल शिक्षा से जुड़ सकते हैं और विश्व भर में विद्या की खोज कर सकते हैं।

शिक्षा में इंटरनेट के नुकसान:-

आजकल समय अभाव के कारण माता पिता भी अपने बच्चों को पर्याप्त समय नहीं दे पाते। जिससे बच्चों को स्कूल गृह कार्य से लेकर अपने प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए ऑनलाइन इंटरने  पर निर्भर रहना पड़ता है और बच्चों को बिना मेहनत  के ही प्रोजेक्ट पूरा करने में मदद मिल जाती है जिससे बच्चों की सोचने की शक्ति पर व्यापक प्रभाव पड़ता है वो किसी काम के लिए मेहनत करने की कोशिश नहीं करते और छोटे से छोटे जवाब के लिए भी मोबाइल या इन्टरनेट का प्रयोग करने लगते है और वे ठीख से सीख  नहीं पाते। शिक्षा में इंटरनेट ने काफी नुकसान भी पहुँचाया है।

1. अपर्याप्त सुरक्षा:- इंटरनेट पर शिक्षा के दौरान छात्रों की निजी जानकारी का सुरक्षा में संकट हो सकता है। और इंटरनेट पर कुछ कंटेंट ऐसे होते है जो बच्चों की भावनात्मक स्थिति को बहुत प्रभावित कर सकते हैं।

2. विचारशीलता:- इंटरनेट पर शिक्षा के बारे में अधिक विचारशीलता हो सकती है, जिससे छात्रों की ध्यान केंद्रित करने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। स्कूल भी बच्चों को ऐसे प्रोजेक्ट देते है जो उनके स्तर से ज्यादा ऊँचा होता है जिससे बच्चे प्रोजेक्ट को मोबाइल या इन्टरनेट के माध्यम से पूरा करते है और स्कूल भी यह ध्यान नहीं देते की बच्चे ने प्रोजेक्ट कैसे बनाया है और उसने इससे क्या सीखा है।

जो सीखा है वह उसका जीवन में प्रयोग कर पायेगा भी या नहीं  क्योंकि उन्होंने वो कार्य नक़ल करके किया है। अत: आज हम शिक्षा में आवश्यकता से ज्यादा इंटरनेट पर निर्भर होते जा रहे है| जिससे बालक पढ़ाई से धीरे-धीरे दूर होते जा रहे है अत:सभी माता -पिता को ध्यान देना चाहिए की बच्चा क्या सीख रहा है और उसका प्रयोग वो जीवन में कर  सकता है या नहीं |

निष्कर्ष:- इस प्रकार हम कह सकते है कि शिक्षा में इंटरनेट के फायदे व नुकसान दोनों है। कहा भी जाता है की अति प्रत्येक चीज की हानिकारक होती है। अत:हम इन्टरनेट का सीमित प्रयोग कर इसके नुकसान से बच्चों को बचा सकते हैं|

परीक्षा के तनाव को कम करने के लिए 8 महत्वपूर्ण टिप्स । 8 important tips to reduce exam stress

1 thought on “शिक्षा में इंटरनेट की भूमिका ”फायदे या नुकसान”2023।”

Leave a Comment